माँ – Maa.n/Mother [Poems] [Tribute]

गुलज़ार साब के जन्मदिन पर प्रस्तुत है उनकी एक अनूठी पर्सनल नज़्म जो उन्होनें अपनी माँ को समर्पित की है! तुझे पहचानूंगा कैसे? तुझे देखा ही नहीं ढूँढा करता हूं तुम्हें अपने चेहरे में ही कहीं लोग कहते हैं मेरी आँखें मेरी माँ सी हैं यूं तो लबरेज़ हैं पानी से मगर प्यासी हैं कान में छेद है पैदायशी आया होगा तूने मन्नत के लिये कान छिदाया होगा सामने दाँतों का वक़्फा है तेरे भी होगा एक चक्कर तेरे पाँव के तले भी होगा जाने किस जल्दी में थी जन्म दिया, दौड़ गयी क्या खुदा देख लिया था कि मुझे छोड़ गयी मेल के देखता हूं मिल ही जाए तुझसी कहीं तेरे बिन ओपरी लगती है मुझे सारी जमीं तुझे पहचानूंगा कैसे? तुझे देखा ही नहीं Tujhe pahchaanunga kaise Tujhe dekha hi nahi.n dhoondha karata hoon tumhe.n apne chehare me hi kahi.n Log kahate hai.n meri aankhe.n meri Maa.n si hai yoo.n to labrez hai.n paani se magar pyaasi hai.n Kaan me.n chhed hai paidaayashi aaya hoga tune mannat ke liye kaan chhidaaya hoga Saamne daanto.n ka waqfa hai tere bhi hoga ek chakkar tere paanv ke tale bhi hoga Jaane kis zaldi me.n thi janm diya, dauD gayi kya khuda dekh liya tha ki mujhe chhod gayi Mel ke dekhta hoo.n mil hi jaaye tujhsi kahi.n tere bin Opari lagti hai mujhe saari zamee.n Tujhe pahchaanunga kaise Tujhe...

Read More